महात्मा रामचन्द्र "वीर" ने ज्ञान की खोज में घर का त्याग तब किया था, जब वे न "महात्मा' थे न "वीर'14 वर्ष का बालक रामचन्द्र आत्मा की शान्ति को ढूँढता हुआ अमर हुतात्मा स्वामी श्रद्धानन्द के पास जा पहुँचा। वहॉं उसे ठॉंव मिलता उसके पूर्व ही ममतामय पिता उसे मनाकर वापस ले आये, किन्तु तभी हत्यारे अब्दुल रशीद की गोलियों से बींधे गये स्वामी श्रद्धानन्द के उत्सर्ग के समाचार ने रामचन्द्र के रोम-रोम में स्वधर्म के आहत स्वाभिमान की ज्वालाएँ सुलगा दीं और रामचन्द्र फिर निकल पड़ा। अमर हुतात्मा पूर्वज स्वामी गोपालदास की अतृप्त बलिदानी आत्मा ही मानो उसके अन्तःकरण में आ विराजी थी।

भारत के ग्राम-ग्राम, नगर-नगर में हिन्दुत्व का शंख घोष करते रामचन्द्र शर्मा कैसे पंडित रामचन्द्र शर्मा "वीर" बने और कैसे स्वामी रामचन्द्र "वीर" अथवा महात्मा "वीर" के रूप में भारत के क्षितिज पर प्रकट हुए, इसकी कथा बहुत लम्बी है। जितनी लम्बी, उतनी ही रोमांचकारिणी और तेजस्विनी भी। अपनी अधूरी आत्मकथा "विकटयात्रा' को महात्मा वीर ने अत्यन्त संक्षेप में 650 पृष्ठों में समेटा है और वह भी केवल 1953 तक की ही कथा है। महात्मा रामचन्द्र वीर के जीवन और कार्यों को समेटने के लिए एक महाग्रन्थ चाहिए। उनके जीवनवृत्त का सिंहावलोकन करते हुए संशय यह होता है कि हम किसी व्यक्ति की कथा पढ़ रहे हैं या अनेक संस्थाओं के समवेत कार्यों का लेखा-जोखा देख रहे हैं, क्योंकि जितने और जैसे महान्‌ कार्य महात्मा वीर ने अकेले सम्पन्न किये हैं, उतने और वैसे कार्य अनेक संस्थाएँ ही कर सकती हैं।

महात्मा वीर का जीवन तपस्या का, त्याग का, यातनाओं का, संघर्षों का और युद्धों का तथा विपरीत परिस्थितियों में स्वधर्म रक्षा के लिए सतत सत्याग्रह का एक ज्वलन्त-जागृत इतिहास है। एक तपस्वी को, एक योद्धा को, एक सत्याग्रही को, एक मुनि को, एक महर्षि को, एक सर्वभूतवत्सल सन्त को, एक महाकवि को और एक समाज सुधारक क्रान्तिकारी को हम महात्मा रामचन्द्र "वीर" के रूप में एक साथ देख सकते हैं।

महात्मा वीर के अतिरिक्त ऐसी तपस्या, ऐसा मनोनिग्रह, ऐसा संकल्प, ऐसी दृढ़ता, ऐसा हठ और ऐसी करुणा तथा कोमलता हम एकत्र रूप में किसी एक ही व्यक्ति में अन्यत्र कहॉं देख पाएँगे? हिन्दुत्वाभिमान, स्वधर्म प्रेम और देशभक्ति की उत्कण्ठता हमें महात्मा वीर के पावन चरित में देखने को मिलती है। -स्वामी कल्याणचन्द्र त्रिखण्डीय, दिव्ययुग जून 2009,  Divyayug June 2009

 

जीवन जीने की सही कला जानने एवं वैचारिक क्रान्ति और आध्यात्मिक उत्थान के लिए
वेद मर्मज्ञ आचार्य डॉ. संजय देव के ओजस्वी प्रवचन सुनकर लाभान्वित हों।
गौरवशाली महान भारत -1
Ved Katha 1 part 1 (Greatness of India & Vedas) वेद कथा - प्रवचन एवं व्याख्यान Ved Gyan Katha Divya Pravachan & Vedas explained (Introduction to the Vedas, Explanation of Vedas & Vaidik Mantras in Hindi) by Acharya Dr. Sanjay Dev

 

Hindu Vishwa | Divya Manav Mission | Vedas | Hinduism | Hindutva | Ved | Vedas in Hindi | Vaidik Hindu Dharma | Ved Puran | Veda Upanishads | Acharya Dr Sanjay Dev | Divya Yug | Divyayug | Rigveda | Yajurveda | Samveda | Atharvaveda | Vedic Culture | Sanatan Dharma | Indore MP India | Indore Madhya Pradesh | Explanation of  Vedas | Vedas explain in Hindi | Ved Mandir | Gayatri  Mantra | Mantras | Pravachan | Satsang  | Arya Rishi Maharshi | Gurukul | Vedic Management System | Hindu Matrimony | Ved Gyan DVD | Hindu Religious Books | Hindi Magazine | Vishwa Hindu | Hindi vishwa | वेद | दिव्य मानव मिशन | दिव्ययुग | दिव्य युग | वैदिक धर्म | दर्शन | संस्कृति | मंदिर इंदौर मध्य प्रदेश | आचार्य डॉ. संजय देव

Add comment


Security code
Refresh

Divya Manav Mission India